Saturday, May 18, 2024

कांग्रेस की सरकार बनने पर गरीब परिवारों को दिया जाएगा 10 किग्रा राशन प्रतिमाह


 देश के लोगों का दमन कर रही है भाजपा सरकार, लोगों का आदर-सत्कार करना भाजपा के डीएनए में नहीं

बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई और किसानों के मुद्दों पर बोलने से कतरा रही है भाजपा

चंडीगढ़/सिरसा, 18 मई।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव, पूर्व केंद्रीय मंत्री, हरियाणा कांग्रेस की पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं उत्तराखंड की प्रभारी एवं सिरसा लोकसभा सीट से कांग्रेस (इंडिया गठबंधन) की उम्मीदवार कुमारी सैलजा ने कहा कि दस साल की राजनीति में बहुत बदलाव आया है, आज देश में संविधान और लोकतंत्र बचाने की जंग जारी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर गरीब परिवार को प्रतिमाह 10 किलोग्राम राशन दिया जाएगा। मोदी सरकार बिना सिर पैर के मुद्दे उठाकर जनता को गुमराह कर रही है वह बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई और किसानों के मुद्दों पर बोलने से कतरा रही है क्योंकि उसके पास कहने के लिए कुछ नहीं है, लोकतंत्र में मान सम्मान होता है पर लोगों का मान सम्मान करना तो भाजपा के डीएनए में नहीं है, ये सरकार लोगों का दमन कर रही है, इस तानाशाह सरकार से छुटकारे का समय आ गया है लोग बस मतदान वाले दिन की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

कुमारी सैलजा ने शनिवार को कालांवाली विधानसभा क्षेत्र के अनेक गांवों का दौरा कर जनसभाओं को संबोधित किया। जगह जगह पर उनका पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। बुजुर्गो ने उनके सिर पर हाथ रखकर जीत का आशीर्वाद दिया। उनके साथ पूर्व सांसद चरणजीत सिंह रोडी, पूर्व सांसद डा. सुशील इंदौरा, विधायक शीशपाल केहरवाला, ओमप्रकाश केहरवाला, निर्मल सिंह मलडी, कृष्ण कुमार चेयरमैन ब्लाक समिति, कर्मजीत कौर, आर सी लिंबा, सुरजीत सिंह भावदीन, मनदीप सिंह शेरगिल, राजेश चाड़ीवाल, रत्न गैदर, भूपेंद्र सिंह राठौड, पुष्पा मंहत, बलविंद्र सिंह नेहरा, विशाल वर्मा आदि मौजूद थे। गांव खैरेकां में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कुमारी सैलजा ने कहा कि इस समय देश में बदलाव की लहर जारी है, भाजपा का ग्राफ नीचे गिर कर रहा है। पिछले दस साल वाली स्थिति अब नहीं चलने वाली है। आज दमन की राजनीति हो रही है, लोगों को जीएसटी, ईडी और सीबीआई का दुरूपयोग कर दबाया और डराया जा रहा है। देश का मानसिक रूप से बंटवारा किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार आमजनता के हित में कोई काम करने के बजाए जनता और किसानों के साथ पोर्टल-पोर्टल खेल रही है, किसानों को बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा तक नहीं दिया जाता और धनाड्यों के लाखों-करोडों के कर्जे माफ कर दिए जाते हैं। सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाली सरकार ने जब सरपंचों के सारे अधिकार ही छीन लिये तो गांवों में कैसे विकास होगा, इस सरकार के कार्यकाल में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई तेजी से बढ़ रहे हैं। सरकार जनहित के मुद्दों पर ध्यान देने के बजाए जनता को मुद्दों से भटका कर देश की जनता के साथ विश्वासघात के सिवाय कुछ नहीं किया, कभी लोगों के  खाते में 15 लाख रुपये डालने की बात कहकर गुमराह किया। उन्होंने कहा कि भाजपा ने देश और समाज में बंटवारे जैसा माहौल बना दिया है, देश में लोकतंत्र तो रहा ही नहीं सरकार तानाशाह बनी हुई है, लोग अपने सम्मान और अधिकारियों की लड़ाई लड़ रहे हैं, अब हमें किसानों, युवाओं, महिलाओं, कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखकर कल के बारे में सोचना है आज समय आ गया है जहां लोकतंत्र को बचाना भी है और उसे मजबूत करना भी है। युवाओं को नशे की गर्त से बाहर निकालकर उन्हें समाज की मुख्यधारा में शामिल करना है और उनको रोजगार उपलब्ध करवाना है। जिस देश में बेरोजगारों की कतार लगी हुई है वहां विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि किसान अपने हकों की लड़ाई लड़ रहा है पर सरकार के पास उनको मुआवजा तक देने के लिए पैसे नहीं है पर सरकार के साथ चलने वाले दो चार धलाड्यों के लाखों-करोडों के कर्ज माफ किए जाते है क्या इसी को सबका साथ सबका विकास कहा जाता है।

उन्होंने कहा कि सिरसा लोकसभा क्षेत्र उनका अपना घर परिवार है, उनके पिता चौ दलबीर सिंह का इस क्षेत्र से लगाव रहा है इसी भूमि से उन्होंने राजनीति की शुरूआत की, मेरा इस क्षेत्र से गहरा नाता रहा है, उनका सिरसा आना जाना रहा है वे लोगों के सुख दुख में शामिल होती रही है। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों के कहने पर ही वे चुनाव लड़ रही है सच तो ये है कि यहां से सैलजा नहीं बल्कि यहां की जनता चुनाव लड़ रही है। भाजपा सरकार को सत्ता से बाहर करने के लिए हम सभी को एकजुट होकर लडाई लड़नी होगी। हम सभी को मिलकर बीजेपी के मंंसूबों को पूरा नहीं होने देना है। कुमारी सैलजा ने कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों की आय दुगनी करने के बात कही थी आय दुगनी तो नहीं हुई पर दस साल में किसान पर आर्थिक बोझा कई गुना बढ़ गया। फसलों को मुआवजा दिया नहीं जा रहा है, किसान धरना प्रदर्शन कर रहा है, सरकार एमएसपी की बात से दूर भाग रहा है एसएसपी पर आश्वासन ही दिए जा रहे है पर कांग्रेस वायदा करती है कि एमएसपी कानून लागू किया जाएगा और किसानों के सारे कब्जे माफ किए जाएंगे। सरपंचों और स्थानीय निकायों के अध्यक्षों के अधिकार बहाल किए जाएंगे। युवाओं, महिलाओं को उनके हक दिए जाएगें, भाजपा किसी न किसी बहाने से महिलाओं, बहन बेटियों का अपमान करती आ रही है पर कांग्रेस महिलाओं का पूरा मान सम्मान करेगी। नशा मुक्ति को लेकर सख्त नीति बनाई जाएगी। युवाओं को नशे से बाहर निकालने के लिए प्रभावित हर जिला में नशा मुक्ति केंद्र खोले जाएंगे।

फोटो – कुमारी सैलजा

भाजपा सरकार के दिए दर्द को किसान भूले नहीं, 25 मई को देंगे जवाब: जयप्रकाश


 NEWS/ AAJ KI DELHI/ YOGRAAJ SHARMA

 बरवाला हलके के दर्जनों गांवों में जयप्रकाश का हुआ भव्य स्वागत

हिसार, : हिसार लोकसभा क्षेत्र से इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने बरवाला हलके के विभिन्न गांवों का दौरा किया। उन्होंने अपने दौरे की शुरुआत गांव सुलखनी से की। इसके बाद बुगाना, धिगताना, बाडो, राजली, पंघाल, ढाणी मिरदाद और ढाणी खानबहादुर गांवों में जनसम्पर्क अभियान चलाया। गांव में ग्रामीणों ने जयप्रकाश जी का जोरदार स्वागत किया। सुलखनी, बुगाना, धिगताना बाडो, राजली और पंघाल आदि गांवों में फूलमालाएं व पगड़ी पहनाकर इंडिया गठबंधन के हिसार लोकसभा के प्रत्याशी जयप्रकाश को सम्मानित किया। गांव बाडोपट्टी में लड्डूओं से तोला और पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया।

 सुलखनी, बुगाना, धिगताना बाडो, राजली और पंघाल आदि गांवों में इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने जनसमूह को संबोधित करते हुए 20 मई को बरवाला की कपास मंडी में होने वाली भूपेंद्र सिंह हुड्डा की रैली में लाखों की तादद में पहुंचने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि मेरे 42 साल के राजनीतिक कार्यकाल में लोगों में इतना जोश कभी नहीं देखा। लोगों में कांग्रेस पार्टी की नीतियों को लेकर इस बार भारी उत्साह और जोश है। उन्होंने अपने संबोधन कहा कि मेरे सामने जो भाजपा का उम्मीद्वार है वह तो केवल छापेमार है जिन्होंने बिजली और बिल वसूली के नाम पर प्रदेश की जनता को केवल तंग करने के अलावा कुछ नहीं किया। बिजली चोरी के नाम पर प्रदेश की गरीब जनता पर लाखों रुपये का जुर्माना लगाया और लूटखसोट की। जबकि पूंजीपतियों के बिल माफ कर दिए और गरीबों के बिजली मीटर उखाड़ने का काम किया।

इंडिया गठबंधन के हिसार लोकसभा प्रत्याशी जयप्रकाश ने कहा कि मनरेगा योजना कांग्रेस सरकार की गरीबों और जरुरतमंदों के लिए चलाई गई एक कारगर योजना है। भाजपा सरकार इस योजना को बंद करने के प्रयास में है।

इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने कहा कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर मनरेगा स्कीम को और अधिक बेहतर तरीके से लागू किया जाएगा। कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा-पत्र में कहा कि मनरेगा की मजदूरी पूरे देशभर में 400 रुपये की जाएगी और हरियाणा में कांग्रेस की सरकार आते ही मनरेगा में मजदूरों को 600 रुपये प्रति दिन के हिसाब से दिहाड़ी दी जाएगी।

बरवाला हलके के विभिन्न गांवों में जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए जयप्रकाश ने कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों को जो दर्द दिया है उससे किसान आज तक भूल नहीं पाए है। किसान-मजदूर विरोधी भाजपा सरकार को सत्ता से उखाड़ फैंकने का 25 मई को सुनहरा अवसर है। इस दिन ज्यादा से ज्यादा हाथ का बटन दबाकर इस इस निक्कमी भाजपा सरकार को सत्ता से  बाहर का रास्ता दिखाने का काम करें।

 पूर्व विधायक रामनिवास घोड़ेला, पूर्व विधायक रणधीर सिंह धीरा,  पूर्व चेयरमैन करण सिंह रानोलिया, पूर्व चेयरमैन डाक्टर राजेंद्र सूरा, विनय वत्स, तेलूराम जांगड़ा, तेजबीर पूनिया, बीरमति, ईश्वर सिंह, हरिराम, प्रदीप बूरा, जस्सबीर श्योकंद, संदीप पान्नू, जग्गी राय बरवाला सहित अनेक वरिष्ठ कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

फोटो सहित

-बरवाला के एक गांव में जनसमूह को संबोधित करते जयप्रकाश।

-गांव बाडोपट्टी में ग्रामीणों के साथ विजय चिन्ह बनाते जयप्रकाश।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बरवाला रैली होगी अमित शाह की हिसार रैली से 10 गुणा बड़ीः जयप्रकाश


 NEWS/ AAJ KI DELHI/ YOGRAAJ SHARMA

अमित शाह हिसार में आए तो पूछें दो करोड़ रोजगार की गारंटी कहां हैः जयप्रकाश

बरवाला,  : बाडोपट्टी में इंडिया गठबंधन के हिसार लोकसभा से प्रत्याशी जयप्रकाश ने पत्रकारों से बातचीत की। प्रत्रकारों से बातचीत करते हुए जयप्रकाश ने कहा कि भाजपा सरकार ने प्रदेशवासियों के लिए कुछ नहीं किया, इसलिए भाजपा के खिलाफ देश-और प्रदेश की जनता में भारी रोष है। उन्होंने एक पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि जो लोग जयप्रकाश के नामांकन-पत्र रद्द करने की बात कर रहे हैं, उन्हें इस मामले की पूरी जानकारी नहीं है आधी अधूरी जानकारी के आधार पर इस तरह कि शिकायत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिकायत करने वालों में ज्ञान की कमी और कानूनी प्रक्रिया की जरा सी भी समझ नहीं है।

उन्होंने कहा कि नामांकन भरने के बाद जब नामांकन की जांच हो चुकी है तो इसके बाद शिकायत करने का कोई औचिते नहीं रहता। उन्होंने कहा कि नामांकन रद्द करने के मामले को वे कोर्ट में लेकर जाएंगे और झूठी शिकायत करने वालों के खिलाफ कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्रवाई भी करेंगे। उन्होंने कहा कि अमित शाह की हिसार में होने वाली रैली में जाने वाले लोगों को यह जरूर पूछना चाहिए कि दो करोड़ रोजगार देने की जो गारंटी भाजपा ने दी थी वो कहां गई और 15-15 लाख जो खातों में आने थे वे किसके खाते में चले गए गरीब के खाते में तो एक रुपया तक नहीं पहुंचा। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह और उनके पुत्र पूर्व सांसद बृजेंद्र सिंह उनके साथ है और कांग्रेस के अनेक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अपने-अपने हिसाब से कांग्रेस पार्टी के प्रचार में जुटे हुए हैं और पार्टी बहुत ही मजबूत स्थिति में हैं। उन्होंने दावा में कहा कि हिसार में होने वाली अमित शाह की रैली के मुकाबले चौधरी भूपेंद्र सिहं हुड्डा के नेतृत्व में बरवाला में होने वाली रैली 10 गुणा बड़ी होगी।

 

जारीकर्ता

कृष्ण सिंगला

देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को करें सत्ता से बाहर: कुमारी सैलजा


 हक मांगने और जुर्म के खिलाफ आवाज उठाने पर बरसाई जाती है लाठियां

जुमलेबाज सरकार पर ज्यादा भरोसा मत करना, दस साल भरोसा करके देख लिया ना

लोकतंत्र में जनता के काम होते है तो तानाशाही शासन में शोषण

चंडीगढ़/फतेहाबाद,।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव, हरियाणा कांग्रेस की पूर्व प्रदेशाध्यक्ष, उत्तराखंड की प्रभारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस कार्यसमिति की सदस्य एवं सिरसा लोकसभा सीट से कांग्रेस (इंडिया गठबंधन) की प्रत्याशी कुमारी सैलजा ने कहा कि देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को सत्ता से बाहर करना ही होगा और इसके लिए 25 मई को कांग्रेस के चुनाव चिन्ह हाथ के सामने वाला बटन दबाना होगा। इस जुमलेबाज सरकार पर ज्यादा भरोसा मत करना, दस साल भरोसा करके आपने देख लिया है ना। ये सरकार हक मांगने और जुर्म के खिलाफ आवाज उठाने पर लाठियां बरसाती है।  

कुमारी सैलजा ने शुक्रवार को फतेहाबाद विधानसभा क्षेत्र के अनेक गांवों का दौरा कर जनसभाएं की और अपने लिये वोट की अपील की। गांव बोदीवाली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इंडिया गठबंधन एकजुट होकर चुनाव लड़ रहा है क्योंकि भाजपा की विचारधारा देश के लिए घातक है। देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को सत्ता से बाहर करना होगा। ये ताकत आपके हाथों में हैं क्योंकि लोकतंत्र में वोट की सबसे बड़ी ताकत होती है। उन्होंने कहा कि ये तानाशाही सरकार इस देश के लोकतंत्र को कमजोर कर रही है। दस साल आपने जुमलेबाज सरकार को देख लिया आज दस बार आपको फिर मौका मिला है इस बार पहले वाली गलती मत करना। आप सोच सकते है कि भाजपा सरकार में किसानों, युवाओं और गरीबों को क्या मिला। अब किसके इंतजार में बैठे हो ये जुमलेबाज सरकार आपको कुछ नहीं सकती। लोकतंत्र में जनता के काम होते है और तानाशाही शासन में केवल और केवल जनता का शोषण होता है।

उन्होंने कहा कि 36 बिरादरी में आज इस भाजपा सरकार से कोई खुश नहीं हैं। किसानों को खुशहाली चाहिए नहीं मिली, युवाओं को रोजगार चाहिए नहीं मिला, गरीबों का सुविधाएं चाहिए नहीं मिली अगर देश को कुछ मिला है तो वह बेरोजगारी, महंगाई और भ्रष्टाचार ही है। इस सरकार के राज में जो अमीर था वह और अमीर हो गया और गरीब और गरीब होता जा रहा है। इस देश में पीएम के मित्र अंबानी और अडानी सबसे ज्यादा अमीर हुए है और कुछ अमीर देश का पैसा लेकर भाग गए और विदेश में बैठकर ऐश कर रहे है। उन्होंने कहा कि आज हक मांगों या जुर्म के खिलाफ आवाज उठाओं तो लाठी मिलती है। उन्होंने कहा कि आज में आपके दरबार में हाजिर हूं वोट मांगने आई हूं।

महिलाओं के लिए केंद्र सरकार की आधी 50 प्रतिशत नौकरी आरक्षित की जाएगी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने महिलाओं को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से मजबूत बनाने का वायदा किया है, कांग्रेस जो कहती है उसे पूरा करती भी है कांग्रेस के वायदे और घोषणाएं जुमले नहीं होते, आज भाजपा जुमलेबाज पार्टी हैं। उन्होंने कहा कि गरीब परिवार की महिला को बिना शर्त के एक लाख रुपये प्रतिवर्ष प्रदान करने के लिए महालक्ष्मी योजना की शुरुआत करने का संकल्प लिया है। यह राशि परिवार की महिला बुजुर्ग के बैंक खाते में भेजी जाएगी परिवार में बुजुर्ग महिला नहीं होने पर परिवार के सबसे बुजुर्ग सदस्य के खाते में राशि भेजी जाएगी।  महिलाओं को केंद्र सरकार की आधी 50 प्रतिशत नौकरी आरक्षित की जाएगी। महिलाओं को वेतन में होने वाले भेदभाव को रोकने के लिए समान काम समान वेतन का सिद्धांत लागू किया जाएगा। महिलाओं को दिए जाने वाले संस्थागत ऋण की मात्रा भी वृद्धि की जाएगी।

किसानों को दी गई पांच गारंटी सरकार बनते ही पूरी की जाएगी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस न्याय, युवा न्याय, महिला न्याय गारंटी का ऐलान कर चुकी हैं।  किसानों के लिए   कांग्रेस 05 ऐसी गारंटियां लेकर आई है जो उनकी सभी समस्याओं को जड़ से खत्म कर देंगी।  एमएसपी को कानूनी दर्जा दिया जाएगा और फसलों का भाव स्वामीनाथन के फार्मुला के अनुसार दिया जाएगा, कृषि सामग्रियों पर लगाया गया जीएसटी हटाया जाएगा, ऋण माफी की राशि के निर्धारण के लिए कृषि ऋण माफी आयोग का गठन किया जाएगा।  कृषि उत्पादों की स्थिर कीमतों के लिए आयात निर्यात नीति बनाई जाएगी पीएम फसल बीमा योजना में बदलाव करते हुए  फसल नुकसान के लिए 30 दिन के भीतर किसानों के बैंक खाते में सीधा भुगतान किया जाएगा। इस मौके पर उनके साथ पूर्व सांसद डॉ. सुशील इंदौरा, पूर्व मंत्री प्रो. संपत सिंह, पूर्व विधायक कुलबीर सिंह बैनीवाल, पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, पूर्व विधायक प्रहलाद सिंह गिल्लाखेड़ा, डा. विनीत पुनिया, डा. वीरेंद्र सिवाच, अरविंद शर्मा,  नवनीत गोदारा, सुधीर गोदारा,  अनिल ज्याणी, सुरेंद्र लेघा, लक्ष्य गर्ग आदि मौजूद थे।

सैलजा 18 मई को करेंगी कालांवाली विधानसभा क्षेत्र का दौरा


गैर कानूनी तरीके से अम्बाला जेल रोड बंद करने पर वीरेश शांडिल्य की याचिका पर हाई कोर्ट ने आईजी जेल सहित अम्बाला के डीसी,एसपी को नोटिस जारी किया


 एडवोकेट वासु शांडिल्य की दलीलों के बाद हाईकोर्ट ने किया नोटिस जारी

चंडीगढ़ : अंबाला जेल अधीक्षक ने गैर कानूनी तरीके से अंबाला केंद्रीय जेल रोड को नाकेबंदी कर बंद किया हुआ है जिस कारण सेक्टर 1 जेल लैंड मनाली हाऊस मॉडल टाऊन प्रेम नगर निवासियों व आस पास के लोगों को भारी परेशानी लंबे समय से झेलनी पड़ रही है। गैर कानूनी तरीके से जेल रोड बंद करने को लेकर एंटी टेरोरिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने जेल अधीक्षक सहित प्रशासनिक अधिकारियों को पत्र लिखा लेकिन उनके पत्र के बावजूद भी गैर कानूनी तरीके से बंद जेल रोड को खोला नहीं गया। जिस पर वीरेश शांडिल्य एवं सेक्टर-1 के सैंकड़ों निवासियों ने एडवोकेट वासु रंजन शांडिल्य के माध्यम से पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर कर गैर कानूनी तरीके से बंद रोड को खोलने की मांग की जिसमें एडवोकेट वासु रंजन ने हरियाणा सरकार, आईजी जेल, डीसी अंबाला, एसपी अंबाला, जेल अधीक्षक अंबाला सहित पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को प्रतिवादी बनाया था। जिस पर आज पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट में सुनवाई हुई और हाई कोर्ट ने एडवोकेट वासु रंजन शांडिल्य द्वारा दायर याचिका व उनको सुनने के बाद सभी प्रतिवादियों को नोटिस जारी करने के आदेश दिए हैं।

 वासु रंजन शांडिल्य ने बताया कि अब इस मामले में सुनवाई अगस्त माह में होगी। और उन्हें पूरी उम्मीद है कि हाई कोर्ट गैर कानूनी तरीके से जेल विभाग द्वारा बंद की गई जेल लैंड रोड को खोलने के आदेश देगी। एडवोकेट वासु रंजन शांडिल्य ने हाई कोर्ट को बताया कि सुरक्षा के कारण रोड बंद नहीं किया जा सकता इसके लिए पुलिस व जेल विभाग के पास तमाम सुरक्षा करने के आधुनिक तरीके उपलब्ध है। सुरक्षा के नाम पर जनता के संवैधानिक हकों का उल्लंघन नहीं किया जा सकता ।

300 से अधिक लोगों ने निशुल्क जांच शिविर लाभ उठाया : राजेश भाटिया


 तेजिंदर मेमोरियल एंड एस्कॉर्ट्स मेडिकेयर फाउंडेशन ने लगाया निशुल्क जांच शिविर
फरीदाबाद। श्री सिद्धपीठ हनुमान मंदिर मार्केट नंबर-1 के परिसर में तेजिंदर सिंह मेमोरियल एंड एस्कॉर्ट्स मेडीकेयर फाउंडेशन के तत्वाधान में निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, निशुल्क एक्सरे, आंखों की जांच, हड्डी रोग की जांच सहित सामान्य रोगों की जांच की गई व निशुल्क दवाईयां वितरित की गई। शिविर में फाउंडेशन की समन्वयक श्रीमती तपस्या मेहरा, डा. एस.के. शर्मा, डॉ दीपक कुमार, डा. मनीषा बांगा, श्रीमती ऊषा गेरा, वाई. एस. भाटी, जुगन कुमार व गंगा कुमार आदि स्टाफ शिविर में लोगों की जांच की। शिविर में 300 से अधिक लोगों ने भाग लेकर अपने स्वास्थ्य की जांच करवाई। मंदिर के प्रधान राजेश भाटिया ने कहा कि मंदिर परिसर में समय-समय पर इस प्रकार के निशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविरों का आयोजन किया जाता रहता है, इन शिविरों के माध्यम से कई जरूरतमंद लोग जो अपने स्वास्थ्य की जांच  नहीं करवा पाते वे भी यहां आकर अपने स्वास्थ्य की जांच करवा लेते है। उन्होंने कहा कि शिविर में अनुभवी डाक्टरों द्वारा लोगों की जांच की गई और उन्हें दवाईयां व निशुल्क परामर्श भी दिए गए। राजेश भाटिया ने कहा कि सामाजिक व धार्मिक कार्याे में मंदिर कमेटी हमेशा तत्पर रहती है और उनका प्रयास रहता है कि ऐसे शिविरों से लोगों का भला हो सके। उन्होंने तेजिंदर सिंह मेमोरियल एंड एस्कॉटर्स मेडिकेयर फाउंडेशन के सदस्यों का आभार जताते हुए उन्हें विश्वास दिलाया कि भविष्य में भी मंदिर कमेटी उन्हें ऐसे शिविरों के आयोजनों के लिए सहयोग करती रहेगी।
इस शिविर में मंदिर के चेयरमैन बंसीलाल को कुकरेजा, गुलशन बग्गा, जगदीश भाटिया, सोमनाथ ग्रोवर, गोपाल कृष्ण, प्रेम कुमार, जनक भाटिया, सीमा सितोरिया, राहुल झा, हरिंदर भाटिया, राकेश खन्ना, अनिल अरोड़ा, संदीप भाटिया, प्रेम बब्बर, रिंकल भाटिया, गगन अरोड़ा, अमर बजाज, विशाल भाटिया, भारत कपूर, रविंद्र गुलाटी, सचिन भाटिया, अजय शर्मा, आशीष अरोड़ा, भव्य मलिक, अमित नरूला, सोनू पंडित, बबलू पंडित, लाला पंडित, रजनीश पंडित, रविंद्र पांडे पंडित, रामकिशन, संदीप कुमार, किशन कुमार, स्कूल के अध्यापिकाओं में सोनिया अरोड़ा, सुमन अरोड़ा, रजनी बजाज, रेखा वाधवा, मोनिका वर्मा, मान्या रतड़ा, कमला, नीलम, सोनिया व अन्य मौजूद रहे

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय राजीव भवन में आयोजित संवाददाता को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी महासचिव व मीडिया और कम्युनिकेशन विभाग के चेयरमैन श्री जयराम रमेश ने दिल्ली के प्रदूषण और पर्यावरण पर विशेष संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित किया।


 चार चरण में लोकसभा की 379 सीटों में चुनाव के बाद ही इंडिया गठबंधन को स्‍पष्‍ट और निर्णायक बहुमत मिलना तय होने के बाद प्रधानमंत्री मान चुके है की 4 तारीख को वह आउटगोइंग प्रधानमंत्री होंगे। -- जयराम रमेश

 

दिल्ली में प्रदूषण नियंत्रण की प्रथम जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है, जिसकी विफलता के कारण दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर रहता है। - जयराम रमेश

 

पिछले 10 वर्षों मे 11 बिजली उत्पादन स्टेशनों में वायु प्रदूषण के मानकों का उल्लंघन होता रहा है, जिसका खतरनाक प्रभाव सार्वजनिक स्वास्थ्य पर पड़ा है। - जयराम रमेश

 

नई दिल्ली, 17 मई, 2024--- श्री अनिल भारद्वाज ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे बहुत सम्मानित पत्रकार और छायाकार मित्रों, आप सबका प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से मैं स्वागत करता हूं और आभार प्रकट करता हूं कि हमारे निमंत्रण पर आज समय निकालकर आप इस विशेष पत्रकार वार्ता में पधारे हैं। आज पत्रकार वार्ता को, हमें सौभाग्य है कि हमारे एक ऐसे नेता, एक ऐसे हिंदुस्तान की शख्सियत जो किसी परिचय के लिए और कम से कम आप सबके लिए परिचय के मोहताज नहीं हैं।


मैं परिचय तो उनका क्या दे सकता हूं, लेकिन यह मैं कह सकता हूं कि पिछले दिनों में हमारे जननायक नेता श्री राहुल गांधी जी के साथ कदम से कदम मिलाकर कन्याकुमारी से कश्‍मीर तक की लगभग 4,000 किलोमीटर की दूरी जिन्‍होंने तय की और नॉर्थ ईस्टर्न स्‍टेट मणिपुर से मुंबई तक 6,000 से ज्‍यादा किलोमीटर की यात्रा भी उन्‍होंने पूरी की और एक बहुत बड़ा अनुभव तथा इस देश के लोगों का किस तरह का जीवन यापन है, आज क्‍या-क्‍या परेशानियां लोग झेल रहे हैं, किस तरह से इन सरकारों से त्रस्‍त और परास्‍त हैं, ऐसे हमारे आदरणीय जनरल सेक्रेट्री इंचार्ज मीडिया, कम्‍युनिकेशन एआईसीसी आदरणीय श्री जयराम रमेश सर से मैं अनुरोध करूंगा कि वह पत्रकार वार्ता को शुरू करें।

 

श्री जयराम रमेश ने कहा कि शुक्रिया अनिल। पहले तो आप लोग सोच रहे होंगे कि मैं डीपीसीसी में क्‍यों यह प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर रहा हूं। इसीलिए मैं पहले ही बता दूं आपको कि यह प्रेस वार्ता दिल्‍ली के चुनाव के संदर्भ में है और सिर्फ पर्यावरण से जुड़े हुए मुद्दों पर है। इसीलिए मुझे कहा गया- कि आप आइए, क्‍योंकि यह बहुत बड़ा गंभीर विषय है दिल्‍ली के लिए, दिल्‍ली वासियों के लिए। पर्यावरण से लेकर चार या पांच जो मुद्दे चर्चा में रहे हैं, इस पर बातचीत होती रहती है, इसके बारे में कांग्रेस का क्‍या विचार है, क्‍या सोच है।

 
मैं दिल्‍ली की राजनीति पर बोलने के लिए यहां नहीं आया हूं। आपके जो कुछ सवाल हैं, वह हमारे अनिल भारद्वाज जी से पूछिए, देवेन्‍द्र यादव जी से पूछिए, हमारे दीपक बाबरिया से पूछिए। मैं सिर्फ पर्यावरण पर ही बोलूंगा, पर्यावरण तक ही मेरी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस सीमित रहेगी। पहले तो मैं शुरूआत करूंगा कि चार चरण के चुनाव हो चुके हैं लोक सभा के, 379 सीटों में चुनाव हो चुका है और 25 तारीख को दिल्‍ली की 7 सीटों पर चुनाव होने वाला है। इन चार चरणों के बाद यह बिल्‍कुल स्‍पष्‍ट हो गया है, साफ हो गया है कि कांग्रेस पार्टी और इंडिया जनबंधन की पार्टियों को स्‍पष्‍ट और निर्णायक बहुमत मिलने वाला है।

 
प्रधानमंत्री की भाषा से यह जरूर महसूस होता है कि वह घबराए हुए हैं और जिस तरीके से वह बार-बार झूठ बोल रहे हैं, झूठ की महामारी फैलाने में लगे हैं और बाद में कहते हैं – मैंने यह कुछ नहीं कहा। थोड़ा याददाश्‍त भी वह खो रहे हैं मेरे ख्‍याल से। तो प्रधानमंत्री की परेशानी से, पीढ़ा से, दुख से यह बिल्‍कुल स्‍पष्‍ट होता है कि वह बौखला गए हैं, वह जान गए हैं कि चार तारीख को वह आउटगोइंग प्रधानमंत्री हैं। तो इसमें दिल्‍ली के चुनाव के पहले ही, 25 तारीख के पांचवे चरण के चुनाव के पहले ही इंडिया जनबंधन की पार्टियों को, कांग्रेस पार्टी को मैं समझता हूं स्‍पष्‍ट और निर्णायक बहुमत मिलना तय हो चुका है।


दिल्‍ली के चुनाव में पर्यावरण एक विशेष स्‍थान रखता है और मैं आज आपके सामने, आपके समक्ष दिल्‍ली से संबंधित पांच पर्यावरणिक मुद्दों के बारे में बात करना चाहता हूं। पहली बात तो यह है कि दुनिया भर के शहरों में, महानगरों में अगर आप देखें दिल्‍ली उसी कैटेगरी में आएगा जो सबसे प्रदूषित शहर है। वायु प्रदूषण, इतनी भयंकर मात्रा में है दिल्‍ली में। अगर आप तुलना करें अन्‍य महानगरों से हमारे देश में, विश्‍व भर के महानगरों में, तो दिल्‍ली का स्‍थान पहले या दूसरे नंबर पर आता है और दिल्‍ली जिस जगह स्थित है और दिल्‍ली का एडमिनिस्‍ट्रेटिव सिस्‍टम जो है, वह केंद्र सरकार पर प्राथमिक जिम्‍मेदारी डालता है।


अगर केंद्र सरकार इसमें अपनी जिम्‍मेदारी नहीं निभाएगी, किसी भी केंद्र सरकार की बात मैं कर रहा हूं, तो दिल्‍ली के पर्यावरण की समस्‍याएं सिर्फ दिल्‍ली सरकार इससे निपट नहीं सकती, प्राथमिक जिम्‍मेदारी केंद्र सरकार की है, क्‍योंकि दिल्‍ली की पर्यावरण की समस्‍याएं उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, राजस्‍थान, अलग-अलग राज्‍यों से भी जुड़ी हुई है, क्‍योंकि जिस जगह में दिल्‍ली स्थित है। तो पहली बात तो यह है कि वायु प्रदूषण को लेकर पिछले 10 साल में जो प्रयास किए गए हैं, जो दावा किया गया है, उसका असर देखने को नहीं मिल रहा है और दिल्‍ली वासियों के लिए आज सार्वजनिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए वायु प्रदूषण एक बहुत बड़ी गंभीर समस्‍या बन गई है । नेशनल क्‍लीन एयर प्रोग्राम, राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम की घोषणा की गई थी, उसका कुछ असर नहीं हुआ है।

 
दिल्‍ली के आसपास 11 बिजली स्‍टेशन हैं, जो कोयला इस्‍तेमाल करते हैं। 11 ऐसे बिजली स्‍टेशन हैं, जो दिल्‍ली के लिए ऊर्जा पैदा करते हैं, वह कोयला का इस्‍तेमाल करते हैं और इसमें, जब मैं पर्यावरण मंत्री था, मैं बोल सकता हूं विश्‍वास के साथ सारे बिजली के स्‍टेशनों के लिए वायु प्रदूषण मानक तय किए गए थे और इस मकसद के साथ कि यह मानक लागू हों और जो स्‍टेशन मानक का उल्‍लंघन होता है उन स्‍टेशनों में, उसको हम बंद करा देंगे। यह निर्णय लिया गया था 2009 में। आज असली बात यह है कि 11 में से जो बिजली स्‍टेशन हैं, 9 स्‍टेशनों में किसी ना किसी मानक का उल्‍लंघन हुआ है। पहले मोदी सरकार ने कहा – 2017 के पहले यह मानक पालन करना अनिवार्य है, बाद में 2019 बना, बाद में 2021 बना, अभी कहा गया है कि 2027 तक यह मानक का पालन आप कर सकते हैं।

 

तो जो तय किया गया था दो साल के अंदर, 2013 के पहले ही सारे 11 बिजली स्‍टेशनों में जो वायु प्रदूषण के मानक तय किए गए थे और यह बड़े प्रगतिशील मानक थे, विज्ञान के आधार पर यह मानक तय किए गए थे, उसका बार-बार उल्‍लंघन हुआ है और मोदी सरकार ने, केंद्र सरकार ने इसके बारे में कुछ कार्रवाई नहीं की है और इसका नतीजा यह है कि आप पंजाब को दोषी ठहराओ, हरियाणा को दोषी ठहराओ, उत्तर प्रदेश को दोषी ठहराओ, पर असली बात यह है कि दिल्‍ली के आसपास जो 11 बिजली घर हैं, जिसकी जिम्‍मेदारी केंद्र सरकार के पास है, वहां वायु प्रदूषण के मानक का उल्‍लंघन होता रहा है पिछले 10 साल में और इसका नतीजा सार्वजनिक स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ा है।


तो पहली बात तो यह है वायु प्रदूषण को लेकर जिस गंभीरता से इनफोर्समेंट होना था, कानून लागू होने थे, मानक लागू होने थे, वह नहीं हुआ है और दिल्‍ली की जनता वह भुगत रही है। दूसरी बात, दिल्‍ली में रासायनिक प्रदूषण या इसको आप कह सकते हैं रासायनिक प्रदूषण, यानी कि कैमिकल कंटेमिनेशन। हमारे देश में तीन ऐसे प्रतीक हैं सिर्फ दिल्‍ली में ही, भयंकर रासायनिक संदूषण के प्रतीक। एक गाजीपुर है, दूसरा ओखला है और तीसरा भलस्‍वा है। तीनों जगह मैं गया हूं, तीनों के लिए हमने योजनाएं तैयार की थीं 2010 में, आज भी यह सेनेटरी लैंडफिल, जो कहा जाता है इन तीन साइटों के लिए, गाजीपुर, ओखला और भलस्वा, तीनों रासायनिक संदूषण के खतरनाक प्रतीक बन चुके हैं और इसके बारे में केंद्र सरकार की ओर से कोई कदम नहीं लिया गया है। 12 साल हो गए हैं, इसमें दस साल मोदी सरकार के ही हैं, परियोजना तय की गई थी, मेरी याददाश्त में 2013 को, 2014 में मोदी सरकार आई। दस साल उनके पास था। गाजीपुर, भलस्वा और ओखला में जो रासायनिक संदूषण है, उससे निपटने के लिए वहाँ कोई कार्यवाई नहीं हुई।

 

तीसरी बात, जो पर्यावरण के संदर्भ में महत्व रखता है दिल्ली में, ये अरावली जो है, अरावली पहाड़, जो माउंटेन रेंज है अरावलियों का, यहाँ जो अवैध खनन हुआ करता था एक जमाने में और आज भी कानून का उल्लंघन करके अवैध खनन होता है, इललीगल कंस्ट्रक्शन होता है, पेड़ काटे गए हैं, लाखों पेड़ काटे गए हैं, डिफॉरेस्टेशन हुआ है और इसकी वजह से दिल्ली की जलवायु पर भी इसका दूर असर पड़ा है और केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी से भाग नहीं सकती। क्योंकि अलग-अलग राज्य इसमें जुड़े हुए हैं। अरावली में तो गुजरात भी जुड़ा हुआ है, राजस्थान, गुजरात, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, सब जुड़े हुए हैं।


तो केंद्र सरकार के बिना कोई कदम नहीं लिया जा सकता। तो अरावली में जो हम देख रहे हैं, अवैध खनन देख रहे हैं, गैर कानूनी कंस्ट्रक्शन जो है, इस पर बार-बार सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणियां की हैं, पर इसके बावजूद कोई फर्क नहीं पड़ा है और अरावली के विनाश के कारण दिल्ली की जलवायु पर इसका नकारात्मक असर पड़ा है। इस पर भी केंद्र सरकार ने पिछले दस साल में कोई महत्वपूर्ण कदम नहीं उठाए हैं।


चौथा, ईंट के जो भट्ठे होते हैं, करीब 350 ईंट के भट्टे हैं दिल्ली के आस-पास और मैं कई ईंट के भट्टों में गया हूं और इन ईंट के भट्ठों पर कैसे हम अग्निकरण करें ताकि इनसे वायु प्रदूषण कम हों, इन पर भी परियोजनाएं तैयार की गई थी। इसमें उत्तर प्रदेश का सहयोग चाहिए, क्योंकि ज्यादातर ईंट के भट्टे उत्तर प्रदेश में हैं। इसमें हरियाणा सरकार का योगदान भी है, क्योंकि इसमें इंट के काफी भट्टे झज्जर में हैं और अलग-अलग जिलों में है हरियाणा के। तो इसलिए मैं कहता हूं घुमा-फिरा कर केंद्र सरकार को इनिशिएट लेना जरूरी है, क्योंकि अलग राज्य इसमें शामिल हैं, सिर्फ दिल्ली सरकार कुछ नहीं कर सकती या हमारी सरकार थी,या आम आदमी पार्टी की सरकार है, पर बीजेपी की भी सरकार हो, कोई भी सरकार हो, केंद्र सरकार पर ही प्राथमिक जिम्मेदारी पड़ती है। ये ईंट के भट्ठे जो प्रभाव है दिल्ली की वायु पर, इसको हम कभी नजरअंदाज नहीं कर सकते।


पांचवा और अंतिम मुद्दा, जो मैं दिल्ली के संदर्भ में उठाना चाहता हूं, दिल्ली के  पर्यावरण के संदर्भ में उठाना चाहता हूं, वो यमुना को लेकर है। मनमोहन सिंह के कार्यकाल में येप, YAP, यमुना एक्शन प्लान, जापान सरकार की सहयोगिता से हमने मदद ली। यमुना एक्शन प्लान वन और यमुना एक्शन प्लान टू हमने लागू किया और हमने ये साफ कहा, स्पष्ट कहा, जैसे कि हमने गंगा के संदर्भ में कहा था कि हमारा मकसद सिर्फ निर्मल यमुना का नहीं है, पर अविरल यमुना का भी है। मैंने बार-बार कहा है गंगा के संदर्भ में कि हमारा मिशन गंगा मिनरल गंगा और अविरल गंगा, दोनों हमारे लिए महत्व रखते हैं।

 

ऐसे ही यमुना में भी मिनरल यमुना और अविरल यमुना। नमामि गंगे बना 2014 में, ये यमुना एक्शन प्लान को खत्म किया गया और इसको नमामि गंगे में जोड़ा गया, ठीक है। क्योंकि यमुना गंगा से जुड़ा हुआ है। पर एनजीटी के आदेशों के बावजूद जो लापरवाही हुई है पिछले दस सालों में यमुना को लेकर, मैं समझता हूं अभी यमुना उसी हालत में है, उसी स्थिति में है, जो पिछले दस साल या बारह साल में थी। निर्मलता और अविरलता पर नमामि गंगे का कोई असर नहीं हुआ है और यमुना आप जानते हैं दिल्ली के लिए इतना महत्व रखता है, तो यमुना नदी प्रदूषण को लेकर बातें तो प्रधानमंत्री तो बहुत कुछ करते हैं। क्रूज लगाते हैं गंगा में, पर यमुना में उन्होंने ध्यान ही नहीं दिया है। यमुना एक्शन प्लान को खत्म कर दिया है।


एनजीटी यानी नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने एक समिति का गठन भी किया था, उस समिति को भी इन्होंने खत्म कर दिया। नमामि गंगे का ये एक हिस्सा बन गया, पर अविरलता और निर्मलता पर कोई असर नहीं हुआ। तो साथियों संक्षिप्त में ये कहूंगा कि इंडिया जनबंधन की जो सरकार बनने वाली है, मैं अगर बनने वाली है नहीं कह रहा हूं। मैं कह रहा हूं अभी बनने वाली है, इंडिया गठबंधन सरकार की प्राथमिकता अपने काम से, अपने कार्यों से, सिर्फ कागजी वायदे नहीं हैं, ये भाषणों के लिए नहीं है, पर अपने काम से ये पांच जो मुद्दे मैंने उठाए हैं दिल्ली के संदर्भ में, उसको प्राथमिकता जरुर देगी।


वायु प्रदूषण, रासायनिक संदूषण, अरावली को फिर से वृक्षारोपण, अवैध माइनिंग और कंस्ट्रक्शन को खत्म करना, यमुना एक्शन प्लान को फिर से एक बार पुनर्जीवित करना और जो एनजीटी के आदेश हैं, जो मानक तय किए गए हैं गुणवत्ता के लिए, उसको एक समय सीमा के अंदर उसको हासिल करना। यहाँ के बिजली घरों में जो प्रदूषण के मानक का उल्लंघन हो रहा है, फौरन उनके खिलाफ कार्रवाई करना और जो अलग-अलग प्रदूषण के स्रोत हैं, जिसमें ईंट के भट्ठे विशेष महत्व रखते हैं, उनकी भी जो समस्याएं हैं, उनको भी हमें इस परियोजना में शामिल करके दिल्लीवासियों के लिए हम राहत पहुंचाने की गारंटी देते हैं।

 

सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए ये पर्यावरण मुद्दे बहुत महत्वपूर्ण हैं। ये पर्यावरण सिर्फ एक मध्य वर्गीय मुद्दा नहीं रहा। एक जमाना हुआ करता था, लोग कहते थे कि ये पर्यावरण की बात क्यों करते हो, ये तो मीडिल क्लास इशू है। आज ये मीडिल क्लास इशू नहीं है, ये एक सार्वजनिक स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ अत्यंत संवेदनशील और महत्वपूर्ण विषय है। सभी पर असर करता है, मध्यम वर्ग के हों, उच्च वर्ग के लोग हों, गरीब हों, कोई फर्क नहीं है, सभी लोग पीड़ित हैं प्रदूषण से और संदूषण से और सार्वजनिक स्वास्थ्य पर इसका काफी नकारात्मक असर पड़ा है और हमारी सरकार, इंडिया जनबंधन की सरकार पहचानती है कि अगर केंद्र सरकार जिम्मेदारी नहीं लेती, दिल्ली के पर्यावरण की समस्याओं का हल कभी नहीं होगा।


तो इसलिए मैं आज क्योंकि 25 तारीख को चुनाव होने वाले हैं। मैं हमारी पार्टी की ओर से दिल्लीवासियों को ये आश्वासन फिर से दिलाना चाहता हूं कि दिल्ली के प्रदूषण और संदूषण, जो मुद्दे मैंने उठाए हैं, उसको प्राथमिकता देगी इंडिया जनबंधन की सरकार और हम एक समय सीमा के अंदर फर्क दिखाएंगे कि दिल्ली महानगर जो हमारे देश की राजधानी है, यहाँ लोग ऐसे स्वच्छ वायु का उनको अनुभव हो, यमुना में पानी देख सकें, निर्मल पानी देख सकें। यहाँ हरियाली एक जमाने में जो हुआ करती थी, वो फिर से हम देख सकें और जो बार-बार कानून बनाए गए हैं, जो नियम बनाए गए हैं, इनका बार-बार उल्लंघन होता है, उसके खिलाफ हम कड़ी से कड़ी कार्यवाई कर सकें।

 

एक प्रश्न पर कि क्या पर्यावरण में आपने केजरीवाल सरकार को क्लीन चिट दे दी है? श्री जयराम रमेश ने कहा कि नहीं, बिल्कुल ये गलत है। मेरे कहने का ये मतलब है कि किसी एक सरकार को हम दोषी नहीं ठहरा सकते, क्योंकि दिल्ली का एडमिनिस्ट्रेटिव सिस्टम देखिए, दिल्ली कहाँ स्थित है, वो देखें, भौगोलिक तरह से वहाँ देखें और एक प्रशासनिक नजरिए से देखें तो आपको पता लग जाएगा कि प्राथमिक जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होती है।

 

पर्यावरण के संदर्भ में पूछे एक अन्य प्रश्न पर के उत्तर में श्री जयराम रमेश ने कहा कि मैं आपको आंकड़े देता हूं, ये सरकारी आंकड़े हैं। ये केंद्र सरकार के आंकड़े हैं, कि 11 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट सेंशन हुए थे, सिर्फ 6 कंप्लीट हो चुके हैं, कमिशन हो चुका है और जो सीवेज रोड़ जाता है यमुना में, उसका सिर्फ मात्र आधा हिस्सा इन प्लांट के द्वारा जाता है। तो जितने प्लांट लगने चाहिए थे, 11 प्लांट लगने चाहिए थे, सिर्फ 6 लगाए गए हैं। उन 6 में से 3 या 4 बंद पड़े हुए हैं, वो काम नहीं कर रहे हैं। तो ये यमुना में प्रदूषण का एक बहुत महत्वपूर्ण कारण सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का ना होना है। इसलिए यमुना एक्शन प्लान तैयार किया गया था।  

एक अन्य प्रश्न पर कि जैसा आपने कहा क्या कोल प्रोडक्शन टाइम फ्रेम में हो जाएगा? श्री जयराम रमेश ने कहा कि 2017 तक टाइम दिया गया था इन पावर प्लांट को, 2017 तक। ये मानक तय किया गया था 2011 में। 2017 तक समय दिया गया था इन 11 पावर प्लांट को। 2017 के बाद 2019 बना, 2019 के बाद 2021 बना और 2021 में मोदी सरकार, पर्यावरण मंत्रालय ने कहा कि आपको 2027 तक समय है। मैं समझता हूं कि दो साल के अंदर, बहुत हो चुका है, 2013, यानी कि 11 साल हो चुके हैं, दो साल, दो साल बढ़ा रहे हैं। मेरे विचार में मैक्सिमम दो साल के अंदर इन सभी मानकों का पालन करना अनिवार्य बनना चाहिए और जो कोई पावर प्लांट ये मानकों का पालन नहीं करता, उसको बंद कर देना चाहिए।

 

एक अन्य प्रश्न पर कि केजरीवाल सरकार कहती है कि दिल्ली में प्रदूषण के लिए पंजाब जिम्मेदार है, क्या आप सहमत हैं? श्री जयराम रमेश ने कहा कि इसके बारे में पार्लियामेंट में कई सवाल पूछे गए हैं कौन जिम्मेदार है। पर मैं ये कहूंगा, मैं वही जवाब दूंगा आपको, दिल्ली में पर्यावरण की समस्याएं पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान की सरकारों के सहयोग के बिना हो नहीं सकता। सभी का सहयोग होना जरूरी है और वो सहयोग कौन हकीकत में बदल सकता है केंद्र सरकार। तो कोई जिम्मेदार है, तो केंद्र सरकार है। अगर मैं केंद्र सरकार में होता, मैं पर्यावरण मंत्री था 26 महीने के लिए, मैंने जिम्मेदारी ली दिल्ली के पर्यावरण के लिए, यमुना में मैं गया था, अरावली में शीला जी और मैं गए थे। मैंने शीला जी से कहा आप मुख्यमंत्री हैं दिल्ली की, मैं पर्यावरण मंत्री हूं भारत सरकार का, पर मेरा दायित्व बनता है, मेरी जिम्मेदारी बनती है कि दिल्ली के पर्यावरण के लिए मैं भी जिम्मेदारी लूं। ये क्या होता है आप केंद्र सरकार से पूछो, केंद्र सरकार कहती है दिल्ली सरकार। दिल्ली से सरकार से पूछो, कहती है पंजाब सरकार। पंजाब सरकार कहती है, हरियाणा सरकार। ये फुटबॉल जो है ना जाता रहता है। असली बात ये है कि केंद्र सरकार को पहचानना चाहिए कि उसकी जिम्मेदारी, प्राथमिक जिम्मेदारी होती है।

 

हरियाणा में 18 को प्रधानमंत्री मोदी, 19 को नड्डा, 20 को शाह और योगी, 22 को राजनाथ सिंह

 


जयंत चौधरी, दीया कुमारी, सतपाल महाराज के भी कार्यक्रम तयः अरविंद सैनी

बड़े नेताओं के दौरे से हरियाणा में और प्रचंड होगी मोदी हवाः अरविंद सैनी


अंबाला और रोहतक लोकसभा में होगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली

घरौंडा, कलायत और भिवानी में रैली करेंगे राजनाथ सिंह

नई दिल्ली, । जैसे-जैसे चुनाव की तिथि नजदीक आ रही है वैसे-वैसे हरियाणा में भाजपा के आला नेताओं की ताबड़तोड़ रैलियां और कार्यक्रम शुरू हो गए हैं।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 18 मई शनिवार को हरियाणा में दो रैलियां करेंगे। दोपहर को अंबाला लोकसभा और शाम को सोनीपत  लोकसभा के गोहाना में रैलियां कर माहौल को पूरी तरह भाजपा के पक्ष में करेंगे।
भाजपा हरियाणा के मीडिया प्रभारी अरविंद सैनी ने बताया कि हरियाणा में प्रधानमंत्री की इन दो रैलियों के बाद भी एक के बाद एक स्टार प्रचारकों की रैलियां और कार्यक्रम 23 मई तक लगातार जारी रहेंगे। एक -एक नेता के एक -एक दिन में कई-कई कार्यक्रम तय किए गए हैं। 18 मई को प्रधानमंत्री की रैलियों के बाद 19 मई को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की तीन रैलियां रखी गई है। भाजपा मीडिया प्रभारी अरविंद सैनी के मुताबिक राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा 19 को फरीदाबाद, कैथल और करनाल से शक्तिशाली और विकसित भारत के लिए नरेन्द्र मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाने के लिए जनआशीर्वाद मांगेंगे। इसी तरह 19 मई को ही राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी फरीदाबाद के पलवल में भाजपा के लिए वोट करने की अपील जनता से करेंगे।
20 मई को प्रदेश में गृहमंत्री अमित शाह, उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सतपाल महाराज जैसे तीन बड़े नेताओं के कार्यक्रम रहेंगे। 20 मई को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह हरियाणा में रहेंगे। हिसार और करनाल लोकसभा में उनकी रैलियों का कार्यक्रम तय हो चुका है। इसी दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दोपहर में सिरसा की अनाज मंडी में तथा शाम को रोहतक लोकसभा के झज्जर में रैली को संबोधित करेंगे। 20 मई को ही सतपाल महाराज सोनीपत और भिवानी लोकसभा में जनसभाएं कर मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाकर भाजपा के लिए वोट की अपील करेंगे।
मीडिया प्रभारी श्री सैनी ने बताया कि केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी 22 मई को एक ही दिन में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे। राजनाथ सिंह 22 मई को 11 बजे करनाल लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के समर्थन में घरौंडा में एक बड़ी रैली को संबोधित करेंगे। इसी तरह श्री राजनाथ सिंह की दूसरी रैली 2 बजे कैथल जिला के कलायत में होगी। यहां राजनाथ सिंह कुरूक्षेत्र लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी नवीन जिंदल के समर्थन में लोगों को संबोधित करेंगे।
अरविंद सैनी ने कहा कि राजनाथ सिंह की तीसरी रैली चार बजे भिवानी के हुडा पार्क ग्राउंड में होगी। यहां रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी धर्मबीर सिंह के समर्थन में जनता से वोटों की अपील करेंगे। इसके अगले दिन 23 को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हरियाणा में रहेंगे। मीडिया प्रभारी अरविंद सैनी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा क्षेत्र के पाली में विशाल रैली कर भाजपा की चुनावी जमीन को और मजबूत करेंगे।
अरविंद सैनी ने बताया कि राजस्थान की उप मुख्यमंत्री दीया कुमारी 18 मई को भिवानी महेंद्रगढ़ में भाजपा प्रत्याशी के लिए वोट की अपील करेगी। श्री सैनी ने कहा कि भाजपा के कार्यकर्ताओं में जबरदस्त उत्साह है और हरियाणा की सभी सीटों पर भाजपा बड़े मार्जिन से जीत दर्ज करेगी।

कांग्रेस सरकार बनने पर देश में 30 लाख व प्रदेश में 2 लाख युवाओं को रोजगार देंगे: जयप्रकाश


 हांसी हलके के दर्जनों गांवों में जेपी का जोरदार स्वागत
हिसार, 17 मई: हिसार लोकसभा क्षेत्र से इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने हांसी हलके के विभिन्न गांवों का दौरा किया। दोपहर बाद उन्होंने गांव सुल्तानपुर, धमाणा, कंवारी, मुजादपुर, उमरा, पुट्टी मंगलखां, ढाणी गुजरान, ढाणी ठाकरिया, ढाणी राजू, ढाणी पुरिया, ढाणी सांकरी, हाजमपुर, औरंगा नगर, ढाणी पीरवाली, ढाणी कुम्हारान, ढाणी पिरान, रिछपुरा, ढाणी केन्दू, ढाणी कुन्दनापुर में जनसम्पर्क अभियान चलाया। लोगों ने फूलमालाओं और पगड़ी पहनाकर उनका स्वागत व सम्मान किया। गांव में हजारों की संख्या में लोग उनके साथ मौजूद रहे और जयप्रकाश के सम्मान में गगन भेदी नारे लगाए।
चुनावी जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए इंडिया गठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी जयप्रकाश ने कहा कि भाजपा सरकार ने देश व प्रदेश में पिछले साढ़े 9 साल के कार्यकाल में केवल लोक लुभावने वायदे करके जनता को बरगलाने का काम किया। विकास के नाम पर कोई बड़ा प्रोजेक्ट नहीं लगाया। देश व प्रदेश में बेरोजगारी दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। पढ़े लिखे नौजवान दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। लोकसभा चुनावों के बाद देश में इंडिया गठबंधन की सरकार बनेगी और कांग्रेस के घोषणापत्र के अनुसार 30 लाख सरकारी नौकरियां देंगे। इसके बाद आने वाले विधानसभा चुनाव के बाद भारी बहुमत से प्रदेश में कांग्रेस पार्टी सता में आएगी और भूपेन्द्र हुड्डा प्रदेश की कमान संभालंेगे। प्रदेश की बागडोर संभालने के बाद एक वर्ष में हरियाणा प्रदेश में दो लाख सरकारी नौकरियां देंगे। कौशल रोजगार निगम के तहत जिन युवाओं को अस्थाई नौकरी दी गई है, हमारी सरकार बनने पर इन सभी युवाओं को पक्का किया जाएगा और स्थाई नौकरियां दी जाएंगी।
जयप्रकाश ने कहा कि जाति धर्म के नाम पर वोट की राजनीति करने वाली भाजपा से सावधान रहने की जरूरत है। राजनीति को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए। भावना में आकर वोट का दुरूपयोग मत करना। जयप्रकाश ने कहा कि हर चुनाव में राजनीतिक परिस्थितियां अलग-अलग होती हैं। मेरा चुनाव जनता खुद लड़ रही है। उन्होंने हर गांव में मतदाताओं से कहा कि अधिक से अधिक मतदान करें ताकि वे ज्यादा मतों से चुनाव जीतकर लोकसभा में जा सकें। उन्होंने बताया कि राज्यसभा सांसद व रोहतक लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार दीपेन्द्र हुड्डा 18 मई को सायं 7ः00 बजे तिकोना पार्क हांसी में विशाल जनसभा को सम्बोधित करेंगे।
गांव उमरा में सात बास की ओर से जयप्रकाश को सम्मान का प्रतीक पगड़ी पहनाकर पूर्ण समर्थन देने की घोषणा की गई व विश्वास दिलाया गया कि इस बार सात बास की ओर से भारी मतों से जयप्रकाश को जिताया जाएगा।
इस दौरे में हरियाणा के पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता जयसिंह पाली, हरपाल बूरा, प्रेम मलिक, जिला पार्षद मोहित मलिक, पं. सुमन शर्मा, तेलूराम जांगड़ा, नरेश यादव ढाणा वाले, राहुल मक्कड़, योगेन्द्र योगी, रतन बड़गुज्जर, आशीष मलिक उमरा, जस्सी झील, मांगेराम जांगड़ा, राजेश कासनिया सहित अनेक कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे।
1-5 फोटो कैप्शन: हांसी हलके के विभिन्न गांवों में चुनावी सभाओं को सम्बोधित करते हुए इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश।
जारीकर्ता
कृष्ण सिंगला

Congress committed to remedy the problems of the country's business community--Devender Yadav

 


DPCC president Shri Devender Yadav addresses a conference of   traders “Samvad Se Samadhan” under the “Town Hall” program near Jama Masjid.

 

NEW DELHI, ---Delhi Pradesh Congress Committee President Shri Devender Yadav addressed a conference of  traders "Samvad Se Samadhan" under the Town Hall program near Jama Masjid, and assured them that Congress was committed to  solve the problems of traders in Chandni Chowk Assembly. Shri Devender Yadav said that Congress candidate for the Chandni Chowk Lok Sabha  seat Shri Shri Jai Prakash Aggarwal was a very familiar face to the people of the constituency, as he had been MP from the constituency many times and had served the people of Chandni Chowk sincerely, and would continue to serve them.

 

Representatives of business organizations participated in the “Samvad Se Samadhan” town hall programme. Apart from DPCC president Shri. Devender Yadav, prominent others who attended it were Shri Ajay Arora, Shri Anil Kukreja, Atma Prakash Agarwal, Mohammad Usman, Rahul Sharma, Sushil Goyal, Pradeep Gupta, Naresh Aggarwal and Rakesh.

 

Shri Devender Yadav said that the entire Chandni Chowk area was dominated by the business community, whose problems have not been addressed in the last 10 years. He said that the purpose of the Town Hall programme is to directly interact with the business people, and understand the problems and issues related to their business organizations and find solutions to them. He thanked all those present at the Town Hall for expressing their views freely and frankly, and assured them that Congress would make every effort to solve their problems on  a priority basis.

 

Shri Yadav said that Congress had brought a simple form of GST but the BJP government made it difficult and the same problem happened after the implementation of FDI due to which big and small traders were greatly affected. He said that Shri Rahul Gandhi has been highlighting   the  problems of the business community and the traders regularly as the  BJP had not fulfilled even a single promise made to the traders in the last 10 years. He said that  the BJP protected the interest of  only a select few big business houses, ignoring the plight of the  small and medium traders  regarding MSME.

 

Shri Devender Yadav said that traders and businessmen were working with limited infrastructure in Chandni Chowk, which is called the heart of Delhi, and the government is trying to shift your market form here to somewhere else. He raised the question of whether there was  a plan to shift the market to a place with proper infrastructure so that the traders can conduct their business smoothly. He assured the representatives of the business organizations and small and medium businessmen present their demands so that immediately after the India Alliance comes to power at the Centre, their problems could be tackled on a priority basis to find a lasting solution.

 

DPCC  president Shri Devender Yadav holds meeting with the   people of Chandni Chowk Assembly in connection with the preparations for Shri Rahul Gandhi's public meeting on Saturday.

 

NEW DELHI, ---Delhi Pradesh Congress Committee President Shri Devender Yadav today held an important meeting with the people of Chandni Chowk Assembly at the DPCC  office, Rajiv Bhawan in connection with the preparations for Shri Rahul Gandhi's rally at the Ramlila ground,  Ashok Vihar tomorrow, Saturday, which was presided over by All India Mahila Congress president Ms. Alka Lamba.

 

Apart from Shri Devender Yadav and Alka Lamba, others present at the meeting were prominent workers and leaders from Chandni Chowk, including those who contested the MCD elections   Rahul Sharma, Charan Handa and Shaheen Parveen from the Jama Masjid ward, Praful Joshi, Sudesh Sharma, Ajit Poddar, Ram Nath, Alankrit Marwah, Deepu, Rakesh Kashyap, Vinay Kumar Jareena and Naseem Ahmed.

 

Addressing the meeting, Shri Devender Yadav said that to make the public meeting of Shri Rahul Gandhi at Ashok Vihar a grand success, it was the responsibility of every Congress worker to reach out to as many people as possible, particularly in the Chandni Chowk constituency where Rahulji will be addressing his first public meeting in Delhi for the Lok Sabha elections. He said that the BJP government, which has been surviving on the basis of lies and falsehood, can be replaced by casting the vital votes of the people for the Congress and India Alliance candidates . He requested the Congress workers and leaders  to go door-to-door to ensure the victory of our candidates in the Lok Sabha elections and strengthen Shri Rahul Gandhi’s fight  for justice, to save democracy and the Constitution, by delivering Congress's Nyay Guarantee Card to every house.

 

Shri Devender Yadav said that Congress workers  would have to fight shoulder to shoulder with Shri Rahul Gandhi Ji for his fight for justice for the youth, women, labour, farmers, dalits, backward classes, deprived, lower and middle class to be successful. He said that after the fourth phase of the Lok Sabha elections, it was clear that India Alliance was getting overwhelming support from the people, and the people of Delhi should also come out and vote for India Alliance candidates to shatter BJP’s hopes of crossing “400 par”.

 

  Ms. Alka Lamba said that Congress workers at all the polling booths of Chandni Chowk Assembly are distributing the 5 Nyay and 25 Guarantee cards given in the Congress manifesto (Nyay Sankalp) to every voter door to door, and people's support for the Congress party  has been  continuously increasing. She said that every Congress worker has been given duty  in the entire Chandni Chowk Assembly to campaign for Congress candidate Shri Jai Prakash Aggarwal and ensure his victory.

Chief correspondent,

Friday, May 17, 2024

देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को करें सत्ता से बाहर: कुमारी सैलजा

 


हक मांगने और जुर्म के खिलाफ आवाज उठाने पर बरसाई जाती है लाठियां

जुमलेबाज सरकार पर ज्यादा भरोसा मत करना, दस साल भरोसा करके देख लिया ना

लोकतंत्र में जनता के काम होते है तो तानाशाही शासन में शोषण

चंडीगढ़/फतेहाबाद,

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव, हरियाणा कांग्रेस की पूर्व प्रदेशाध्यक्ष, उत्तराखंड की प्रभारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस कार्यसमिति की सदस्य एवं सिरसा लोकसभा सीट से कांग्रेस (इंडिया गठबंधन) की प्रत्याशी कुमारी सैलजा ने कहा कि देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को सत्ता से बाहर करना ही होगा और इसके लिए 25 मई को कांग्रेस के चुनाव चिन्ह हाथ के सामने वाला बटन दबाना होगा। इस जुमलेबाज सरकार पर ज्यादा भरोसा मत करना, दस साल भरोसा करके आपने देख लिया है ना। ये सरकार हक मांगने और जुर्म के खिलाफ आवाज उठाने पर लाठियां बरसाती है।  

कुमारी सैलजा ने शुक्रवार को फतेहाबाद विधानसभा क्षेत्र के अनेक गांवों का दौरा कर जनसभाएं की और अपने लिये वोट की अपील की। गांव बोदीवाली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इंडिया गठबंधन एकजुट होकर चुनाव लड़ रहा है क्योंकि भाजपा की विचारधारा देश के लिए घातक है। देश के लोकतंत्र, संविधान, संस्कृति और भाईचारे को बचाने के लिए भाजपा को सत्ता से बाहर करना होगा। ये ताकत आपके हाथों में हैं क्योंकि लोकतंत्र में वोट की सबसे बड़ी ताकत होती है। उन्होंने कहा कि ये तानाशाही सरकार इस देश के लोकतंत्र को कमजोर कर रही है। दस साल आपने जुमलेबाज सरकार को देख लिया आज दस बार आपको फिर मौका मिला है इस बार पहले वाली गलती मत करना। आप सोच सकते है कि भाजपा सरकार में किसानों, युवाओं और गरीबों को क्या मिला। अब किसके इंतजार में बैठे हो ये जुमलेबाज सरकार आपको कुछ नहीं सकती। लोकतंत्र में जनता के काम होते है और तानाशाही शासन में केवल और केवल जनता का शोषण होता है।

उन्होंने कहा कि 36 बिरादरी में आज इस भाजपा सरकार से कोई खुश नहीं हैं। किसानों को खुशहाली चाहिए नहीं मिली, युवाओं को रोजगार चाहिए नहीं मिला, गरीबों का सुविधाएं चाहिए नहीं मिली अगर देश को कुछ मिला है तो वह बेरोजगारी, महंगाई और भ्रष्टाचार ही है। इस सरकार के राज में जो अमीर था वह और अमीर हो गया और गरीब और गरीब होता जा रहा है। इस देश में पीएम के मित्र अंबानी और अडानी सबसे ज्यादा अमीर हुए है और कुछ अमीर देश का पैसा लेकर भाग गए और विदेश में बैठकर ऐश कर रहे है। उन्होंने कहा कि आज हक मांगों या जुर्म के खिलाफ आवाज उठाओं तो लाठी मिलती है। उन्होंने कहा कि आज में आपके दरबार में हाजिर हूं वोट मांगने आई हूं।

महिलाओं के लिए केंद्र सरकार की आधी 50 प्रतिशत नौकरी आरक्षित की जाएगी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने महिलाओं को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से मजबूत बनाने का वायदा किया है, कांग्रेस जो कहती है उसे पूरा करती भी है कांग्रेस के वायदे और घोषणाएं जुमले नहीं होते, आज भाजपा जुमलेबाज पार्टी हैं। उन्होंने कहा कि गरीब परिवार की महिला को बिना शर्त के एक लाख रुपये प्रतिवर्ष प्रदान करने के लिए महालक्ष्मी योजना की शुरुआत करने का संकल्प लिया है। यह राशि परिवार की महिला बुजुर्ग के बैंक खाते में भेजी जाएगी परिवार में बुजुर्ग महिला नहीं होने पर परिवार के सबसे बुजुर्ग सदस्य के खाते में राशि भेजी जाएगी।  महिलाओं को केंद्र सरकार की आधी 50 प्रतिशत नौकरी आरक्षित की जाएगी। महिलाओं को वेतन में होने वाले भेदभाव को रोकने के लिए समान काम समान वेतन का सिद्धांत लागू किया जाएगा। महिलाओं को दिए जाने वाले संस्थागत ऋण की मात्रा भी वृद्धि की जाएगी।

किसानों को दी गई पांच गारंटी सरकार बनते ही पूरी की जाएगी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस न्याय, युवा न्याय, महिला न्याय गारंटी का ऐलान कर चुकी हैं।  किसानों के लिए   कांग्रेस 05 ऐसी गारंटियां लेकर आई है जो उनकी सभी समस्याओं को जड़ से खत्म कर देंगी।  एमएसपी को कानूनी दर्जा दिया जाएगा और फसलों का भाव स्वामीनाथन के फार्मुला के अनुसार दिया जाएगा, कृषि सामग्रियों पर लगाया गया जीएसटी हटाया जाएगा, ऋण माफी की राशि के निर्धारण के लिए कृषि ऋण माफी आयोग का गठन किया जाएगा।  कृषि उत्पादों की स्थिर कीमतों के लिए आयात निर्यात नीति बनाई जाएगी पीएम फसल बीमा योजना में बदलाव करते हुए  फसल नुकसान के लिए 30 दिन के भीतर किसानों के बैंक खाते में सीधा भुगतान किया जाएगा। इस मौके पर उनके साथ पूर्व सांसद डॉ. सुशील इंदौरा, पूर्व मंत्री प्रो. संपत सिंह, पूर्व विधायक कुलबीर सिंह बैनीवाल, पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया, पूर्व विधायक प्रहलाद सिंह गिल्लाखेड़ा, डा. विनीत पुनिया, डा. वीरेंद्र सिवाच, अरविंद शर्मा,  नवनीत गोदारा, सुधीर गोदारा,  अनिल ज्याणी, सुरेंद्र लेघा, लक्ष्य गर्ग आदि मौजूद थे।

सैलजा 18 मई को करेंगी सिरसा विधानसभा क्षेत्र का दौरा

कांग्रेस की सरकार आने पर किसानों के सभी कर्जे किए जाएंगे माफ : जयप्रकाश

 


हांसी हलके के दर्जनों गांवों में जयप्रकाश का हुआ भव्य स्वागत

हिसार, 17 मई: हिसार लोकसभा क्षेत्र से इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने हांसी हलके के विभिन्न गांवों का दौरा किया। उन्होंने अपने दौरे की शुरुआत गांव घिराये से की। इसके बाद चनैत, भाटला, धर्मपुरा, कुलाना, लालपुरा, ढाणी कुतुबपुर, गुर्जरखेड़ा, रामायण, देपल, मामनपुरा और ढंढेरी  गांवों में जनसम्पर्क अभियान चलाया। अनेक गांवों में जयप्रकाश को ट्रैक्टर पर बिठाकर सैंकड़ों वाहनों के साथ चुनावी सभा तक ले जाया गया। हर गांव में ग्रामीणों ने उनका जोरदार स्वागत किया। छापड़ा, खटकड़, कहसुन, भौसला गांवों में फूलमालाएं व पगड़ी पहनाकर इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश को सम्मानित किया।

इंडिया गठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी जयप्रकाश का गांव चनैत में भव्य स्वागत किया ग्राणीमों ने कहा कि चनैत गांव में आपका एकतरफा माहौल है। वहीं जयप्रकाश ने कहा कि चनैत गांव एहसान मैं कभी नहीं भूलूंगा हमेशा आप लोगों के साथ खड़ा मिलूंगा।

चनैत, भाटला, धर्मपुरा, कुलाना, लालपुरा, ढाणी कुतुबपुर, गुर्जरखेड़ा, रामायण, देपल, मामनपुरा और ढंढेरी गांव में इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश ने जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी की सरकार आने पर किसानों के सभी कर्जे माफ किए जाएंगे। रामायण ढंढेरी, देपल आदि गांव का किसान आंदोलन में भारी योगदान रहा है और इन्होंने भारी कुर्बानियां दी है, इन कुर्बानियों को बेकार नहीं जानने दिया जाएगा। देश की एकता और अखंडता  को कायम रखने के लिए कांग्रेस पार्टी का बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इन इलाकों में विकास कार्य करवाने की जरूरत है। कांग्रेस की सरकार यहां की विकास की गंगा बहा देंगी। उन्होंने कहा कि देश में पूंजीपतियों की सरकार है इस सरकार में कोई भी वर्ग अत्याचारों से बचा नहीं है, सभी वर्ग इनकी गलत नीतियों से परेशान हैं।

 उन्होंने कहा कि मनरेगा स्कीम कांग्रेस सरकार की देन है और हरियाणा में कांग्रेस की सरकार बनने पर मनरेगा में प्रति व्यक्ति 600 रुपये मजदूरी देने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मनरेगा स्कीम कांग्रेस की देन है। हांसी हलके के विभिन्न गांवों में जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए जयप्रकाश ने कहा कि देश के किसानों ने जब अपने हक-अधिकारों के लिए आवाज उठाई तो देश की सत्ता में बैठी भाजपा की निक्कमी सरकार ने सड़कों पर दौड़ा-दौड़ा कर किसानों को लाठी-डंडों से पीटने का काम किया। किसानों पर तरह-तरह के अत्याचार किए, जिसमें 730 से भी अधिक किसान शहीद हो गए और इस निक्कमी भाजपा सरकार को जरा सा भी अफसोस नहीं है। भाजपा के शासनकाल के दौरान प्रजातंत्र का गला घोंटने का काम किया।

 

इस दौरे में हरियाणा के पूर्व मंत्री सुभाष गोयल, पूर्व मंत्री अतर सिंह सैनी, प्रेम मलिक, सुमन शर्मा, तेलूराम जांगड़ा, रतन बड़गुज्जर, जयसिंह पाली, हरपाल बूरा, मोहित मलिक, आशीष मलिक उमरा, जस्सी झील सहित अनेक कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे।

फोटो सहित

हांसी के गांव में जनसमूह को संबोधित करते इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश।

हांसी के गांव में महिलाओं से जीत का आशीर्वाद लेते इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जययप्रकाश

 

जारीकर्ता

कृष्ण सिंगला

पीआरओ

जयप्रकाश (जेपी)

अग्निवीर योजना से सेना में भर्ती होने वाले युवाओं के भविष्य पर लगा प्रश्नचिन्ह : मेजर जनरल बिशम्बर दयाल


 इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी जयप्रकाश के समर्थन में मेजर जनरल बिशम्बर दयाल वीएसएम (रिटायर्ड डिफेंस एक्सपर्ट) ने कांग्रेस भवन में पत्रकारों से बातचीत की।

मेजर जनरल बिशम्बर दयाल ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा ने जो अग्निवीर योजना चलाई है उससे फौज में भर्ती होने वाले युवाओं को भारी आघात लगा है। उन्होंने कहा कि 1947 से लेकर आज तक हरियाणा के लोगों ने विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं ने फौज में महत्वपूर्ण सेवाओं में योगदान दिया है और इन्ही लोगों में से अधिकांश ने देशभक्ति की भावना से देश की सुरक्षा के लिए अपना बलिदान तक दिया। 10वीं और 12वीं करने के बाद जो बच्चे सेना में भर्ती होना चाहते थे, भाजपा ने उन सभी बच्चों के सपना पर पानी फेरने का काम किया है। इस योजना के खिलाफ युवाओं में भारी रोष है। भाजपा सरकार ने युवाओं का हक छीनने का काम किया है।

भाजपा सरकार में प्रजातंत्र के मायने ही खत्म कर दिए हैं। मेजर जनरल बिशम्बर दयाल ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा है कि कांग्रेस के सत्ता आने पर इस अग्निवीर योजना को खत्म करेंगे और सेना के जवानों को पूरा मान-सम्मान देंगे। उन्होंने कहा कि वन रैंक वन पेंशन कांग्रेस की ही देन है। भाजपा सरकार ने 2014 से 2022 तक नया स्कैल तक नहीं दिया जबकि महंगाई आसमान छू रही है।

उन्होंने पत्रकारों को बताया कि प्रदेशभर के पूर्व सैनिकों में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी का साथ देने का फैसला किया है। एक समय था जब सैना में  5600 से 6000 भर्तियां होती थी और सभी प्रकार की सुविधाएं मिलती थी आज भाजपा सरकार ने अग्निवीर योजना चलाकर सैना में भर्ती होने वाले युवाओं के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र का सेना में विशेष योगदान रहा है परिवार में एक युवक के भर्ती होने से पूरा परिवार सक्षम होता हैं लेकिन भाजपा ने अग्निवीर योजना चलाकर सब खत्म कर दिया। उन्होंने कहा कि सेना का उद्देश्य बाहरी आक्रमणकारियों से देश की सुरक्षा करना है जबकि पुलवामा मामले की आज तक जांच नहीं हो पाई है। कांग्रेस पार्टी ने अपने कार्याकाल में सेना को तीन टैंक दिए और समुंद्री डेरे भी कांग्रेस की ही देन है। वर्ष 2014 से पहले बहुत कुछ फौज के सम्मान में किया गया। वहीं आज भाजपा सरकार ने एक तरफ तो फौज की पेंशन बंद कर दी और दूसरी तरफ समाज उत्थान की बात करते हैं जो की बिल्कुल भी गले नहीं उतरती। भाजपा ने अग्निवीर योजना चलाकार फौज का मनोबल गिराने का काम किया है। हर साल 56 हजार सैनिक रिटायर्ट हो जाते हैं लेकिन उस हिसाब से सेना में भर्तियां नहीं हो पाती। कांग्रेस सरकार आने पर युवाओं को खुली भर्तियों के माध्यम से सैना में सेवा का मौका दिया जाएगा और अग्निवीर योजना को खत्म करने का काम किया जाएगा।

नगर परिषद के पूर्व चेयरमैन कृष्ण सिंगला टीटू, छत्रपाल सोनी, जयप्रकाश के मीडिया प्रभारी कृष्ण सिंगला, बजरंग बंसल, देवेंद्र बामल, अमर गुप्ता सहित अनेक कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे